ब्रह्माक चिंता

- रूपेश कुमार झा 'त्योंथ'

ब्रह्माक चिंता

ब्रह्मा कयलनि अनुपम श्रृष्टि,
श्रम सं ओ रचलनि इंसान।
बुद्धि संग द' बल-विवेक,
फुंकलनि ओहि मे ओ स्वर्णिम जान।

तइयो हुनका नहि भेटलनि तृप्ति,
द' देलनि मनुज कें असीमित ज्ञान।
भेजलनि जखन धरती पर ओकरा,
छल ने जीव कोनो ओहि समान।

सूझ -बूझ कें बले मानव,
कयलक तीव्र गतिये उत्थान।
पेट पोसबाक जोगर कय,
भेल ओ भौतिक सुख हेतु हरान।

विकासक सीढ़ी चढैत अपन,
सूझे अनलक उपयोगी विज्ञानं।
आह विज्ञानं जे ओ छुलक,
दूर मेघक चमकैत चान।

वाह मनुक्ख ! तू करबए किए ने,
अपन बुधि पर कने गुमान।
एही क्रमे बनल सेहो ओ,
पराक्रमी अस्त्र-शस्त्रवान।

उधेशय लागल आब मनुक्ख,
देवक बगिया कें बनि हैवान।
हाहाकार अछि पसरल सगरो,
दुष्ट ने बुझय अप्पन-आन।

मारय-काटय एक दोसर कें,
बैसल कुहरय लोक लहूलुहान।
त्राहि-त्राहि केर सुनि टाहि,
टूटलनि ब्रह्मा केर योग-ध्यान।

देखि अचंभित भेल छथि,
धरती परक सांझ-विहान।
चिंता मे छथि लागल ब्रह्मा,
भेटत कोना मनुक्ख सं त्राण।

8 comments:

मनोज कुमार said...

अच्छी रचना। बधाई।

हरिओम दास अरुण ब्लॉग said...

एतेक नीक रचना अपनेक स्वस्थ मानसिकता क गवाही देत अछि. बहुत बहुत बधाई.

करण समस्तीपुरी said...

देखि अचंभित भेल छथि,
धरती परक सांझ-विहान।
चिंता मे छथि लागल ब्रह्मा,
भेटत कोना मनुक्ख सं त्राण।

बड़ नीक ! अपन बेवकूफी पर सभ कें पछताए पड़ैत अछि. ब्रह्मा जी सेहो जुनी अवाद नहि छथि !

Rajeev Ranjan Lall said...

रुपेश जी, स्वागत एहि मंच पर| अहाँक रचना प्रशंसनीय अछि|

सुभाष चन्द्र said...

वाह मनुक्ख ! तू करबए किए ने,
अपन बुधि पर कने गुमान।
एही क्रमे बनल सेहो ओ,
पराक्रमी अस्त्र-शस्त्रवान।

जिम्हर देखू.. येह स्थिथि अछि... जे सचमुच चिंता के विषय छैक

satish said...

rupesh jee bahut sundar rachana
apane t hamar paroshi chi. hamar ghar nagwas bhel.ahina likhait rahu.
satish

कुन्दन कुमार मल्लिक said...

एहि यथार्थवादी रचनाक लेल बधाई आ हार्दिक अभिनन्दन अपनेक एहि मंच पर।

आदि यायावर said...

देर सँ टिप्पणी देबाक लेल खेद अछि. कविता अपने आप मे परिपूर्ण अछि. साहित्य मे अहाँ के रुचि अछि आ अपनेक लेखन सँ बुझना जा रहल अछि जे साहित्य केँ अहाँ बहुत पढ़ने छी.

कथा....भैरवी

कथा....भैरवी विवाहक पाँचम बरखक बाद अनायास भैरवीसँ चन्द्रेश्वर बाबाक मन्दिरमे भेट भेल छल। नरक निवारण चर्तुदशीक व्रत केने रही। मायक जिदपर...